Facebook पर हुए प्यार के लिए नाबालिग छात्रा ने उठाया यह कदम

Facebook  पर हुई दोस्ती धीरे-धीरे प्यार में बदली और प्यार में मीलों की दूरियां भी कम हो जाती हैं। ऐसा ही कुछ हुआ इस मामले में। Facebook  पर हुई दोस्ती को दो नाबालिगों ने शादी में बदलने का फैसला कर लिया। लड़की बिहार की और लड़का पानीपत का। लड़की घरवालों को बिना बताए 1200 किलोमीटर की दूरी तय कर पानीपत पहुंच गई। मगर लड़के के परिवार वालों ने उसे बेटे से नहीं मिलने दिया और उसे बाल कल्याण केंद्र भेज दिया। लड़की के परिवार वालों को बिहार के जिला मधुबनी में सूचित कर दिया गया है।

दसवीं कक्षा की छात्रा को आठ महीने पहले पानीपत के लड़के ने उसे Facebook पर फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजी। किशोरी ने उसे स्वीकार कर लिया। एक-दो माह तो दोस्तों की तरह बातचीत चलती रही। चैट करते-करते कब एक-दूसरे को दिल दे बैठे, पता ही नहीं चला।

किशोरी ने बताया कि वजीफा के दो हजार रुपये बैंक खाते में जमा थे। रकम व दो जोड़ी कपड़े लेकर घर से निकली। किराये और खाने-पीने में 1400 रुपये खर्च हो गए हैं। अब उसे स्वजनों और पड़ोसियों के तानों का डर है और घर नहीं लौटना चाहती।

लड़के ने लड़की को बताया कि वह एक कंपनी में जॉब करता है। इसके बाद दोनों शादी के बंधन में बंधने को तैयार हो गए। लड़के के निमंत्रण पर शनिवार को किशोरी ने स्वजनों को बिना बताए घर छोड़ दिया और पानीपत पहुंच गई। यहां लड़के के परिवार वालों ने उससे मुलाकात की और उसे लेकर बाल कल्याण केंद्र गए। आधार कार्ड में लड़की की जन्मतिथि 2006 की दर्ज है। लड़की का दावा है कि उसका जन्म 2002 में हुआ है। वहीं, लड़का भी 16 साल का बताया गया है।

किशोरी को बताया गया कि लड़का 16 साल का है, पांच साल तक शादी नहीं हो सकती। उसने जबाव दिया कि पांच साल क्या, पांच जन्म इंतजार कर लूंगी, मगर शादी उसी से करनी है। किशोरी एक बार लड़के का चेहरा देखने की जिद भी करती रही।

बाल कल्याण समिति की चेयरपर्सन पदमा रानी का कहना है कि लड़का-लड़की दोनों नाबालिग हैं। लड़के के स्वजनों को मामले का पता ही तब चला, जब लड़की पानीपत पहुंच चुकी थी। अब लड़की की काउंसिलिंग कराई जाएगी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.