खुशखबरी- हरियाणा रोडवेज विभाग में करीब 5200 कर्मचारियों की होगी भर्ती

हरियाणा के परिवहन तथा खान एवं भू-विज्ञान मंत्री मूलचंद शर्मा ने कहा कि वर्तमान राज्य सरकार हर हाल में प्रदेशवासियों को पर्याप्त परिवहन सुविधाएं मुहैया करवाने के लिए प्रतिबद्घ है और जल्द ही राज्य परिवहन का बेड़ा बढ़ाकर 4500 बसों का किया जाएगा। उन्होंने कहा कि राज्य परिवहन के बेड़े मेंं लगभग 3600 बसें हैं। वर्तमान सरकार बनने के बाद 150 मिनी बसें आई हैं जबकि 130 पिंक बसें महिलाओं के लिए चलाई जा रही हैं।

मूलचंद शर्मा ने आज यहां मीडियाकर्मियों से बातचीत के दौरान कहा कि किलोमीटर स्कीम के तहत 510 बसों में से लगभग 80 प्रतिशत चल पड़ी हैं जबकि शेष 20 प्रतिशत बसें भी 31 मार्च, 2020 तक चलने लगेंगी। इसके अलावा, 18 वोल्वो बसें शीघ्र ही आने वाली हंै। इसी तरह,  867 बसों की खरीद की स्वीकृति दी जा चुकी है जो मई-जून तक सडक़ों पर आ जाएंगी।

परिवहन मंत्री ने कहा कि किलोमीटर स्कीम पूरी तरह से प्रदेश के आम आदमी के हित में है और बेड़े में बसों की कमी को जल्द ही पूरा कर लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि आम आदमी के हितों का ख्याल रखना सरकार का दायित्व है। उन्होंने कहा कि कर्मचारी यूनियनों का आरोप था कि सरकार रोडवेज को खत्म करना चाहती है। उनकी मांग थी कि कर्मचारियों की छंटनी नहीं होनी चाहिए। सरकार ने उन्हें आश्वासन दिया कि न तो किसी कर्मचारी की छंटनी की जाएगी और न ही बेड़े में बसों की संख्या कम की जाएगी। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने परिवहन विभाग में लगभग 5200 कर्मचारियों की भर्ती की है।

उन्होंने कहा कि  हर व्यक्ति को अपनी बात कहने का अधिकार है। यदि कर्मचारी संगठनों की कोई मांग है या उन्हें कोई समस्या है तो बताएं, उनकी बात सुनी जाएगी। केवल विरोध के नाम पर विरोध करना अच्छी बात नहीं है।

श्री मूलचंद शर्मा, जिनके पास खान एवं भू-विज्ञान विभाग भी है, ने कहा कि राज्य सरकार ने प्रदेश में अवैध खनन को रोकने के लिए ठोस कदम उठाए हैं और इस मामले में किसी भी तरह की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। उन्होंने कहा कि गृह विभाग से अलग से फोर्स मांगी गई है जो जांच के लिए जाने वाले कर्मचारियों के साथ जाएगी ताकि उनके साथ किसी तरह का दुव्र्यवहार न हो। इसके अलावा, विभाग में नई भर्ती के लिए भी शीघ्र ही हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग से आग्रह किया जाएगा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.