हरियाणा में तीन दिन के बाद तेज हवाओं के साथ तापमान में गिरावट की संभावना

हरियाणा में मार्च के महीने में भी सर्दी कम होने का नाम नहीं ले रही है। वहीं कुछ जिलों में सुबह के समय धुंध देखने को भी मिली है। इससे आम लोग ही नहीं, मौसम विज्ञानी भी हैरान हैं। उनके मुताबिक, यह अजब-गजब स्थिति पश्चिमी विक्षोभ की अनवरत सक्रियता के चलते बनी है।

मौसम विशेषज्ञों का स्पष्ट आकलन है कि अभी कम से कम एक से दो बार और पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय हो सकता है। खासकर, 20-21 मार्च के आसपास एक बार फिर मौसम अपने तेवर दिखा सकता है। इसके बाद तापमान में बढ़ोत्तरी होती रहेगी और अप्रैल की शुरुआत तक गर्मी अपना पूरा प्रभाव जमा लेगी।

आपको बता दें कि बढ़ती ग्लोबल वार्मिंग के कारण ईरान से शुरू होकर अफगानिस्तान के रास्ते भारत पहुंची हवाओं और वायुमंडलीय दबाव के मेल से बार-बार पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय हो रहा है। मौजूदा सीजन में अमूमन हर साल अधिकतम तीन बार ऐसा होता था लेकिन इस वर्ष अभी तक सात बार यह स्थिति बन चुकी है, जिसका प्रभाव समूची इंडस-गंगेटिक वैली में नजर आ रहा है।

हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय के कृषि मौसम विज्ञान विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. मदन खिचड़ की मानें तो आगामी तीन दिन तक मौसम खुश्क रहेगा, हालांकि आसमान में बादल छाए रहेंगे। रविवार से उत्तर पश्चिमी हवाएं चलनी शुरू हो गई हैं, जिसके कारण दिन के तापमान में बढ़ोतरी और रात्रि के तापमान में गिरावट दर्ज की जाएगी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.