हरियाणा में बड़े उद्योगों में बिजली का फिक्स चार्ज माफ

चंडीगढ़ : कोरोना संकट के चलते आर्थिक मंदी से जूझ रहे व्यापारियों और उद्यमियों तथा नौकरी को लेकर चिंतित अनुबंधित कर्मचारियों को प्रदेश सरकार ने बड़ी राहत दी है। व्यावसायिक प्रतिष्ठानों में बिजली की खपत आधी करने वाले उद्योगपतियों और व्यापारियों का फिक्स चार्ज माफ होगा। इसी तरह सरकार ने अनुबंधित कर्मचारियों को भी सरकार ने तोहफा दिया है। उनको लॉक डाउन की अवधि का भी पूरा वेतन मिलेगा।

अनुबंध के कर्मचारियों के लिए जीरो पीरियड माने जाएंगे लॉक डाउन के 21 दिन, सेवाकाल में मिलेगा लाभ

हरियाणा के मुख्‍यमंत्री मनोहरलाल ने घोषणा की, कि 50 किलोवाट तक के बिजली उपभोक्ताओं का मार्च और अप्रैल का पूरा फिक्स चार्ज माफ किया जाएगा, जबकि इससे बड़े उपभोक्ताओं के दस हजार रुपये तक के फिक्स चार्ज माफ होंगे। वहीं, अनुबंध पर लगे कर्मचारियों के लिये लॉक डाउन के 21 दिन को जीरो पीरियड माना जाएगा जिसका फायदा सेवाकाल में मिलेगा। इस अवधि का पूरा वेतन भी दिया जाएगा।

बिजली की खपत आधी करने वाले उद्योगपतियों और व्यापारियों को फिक्स चार्ज में छूट

शुक्रवार को डिजिटल मोड के जरिए आमजन से मुखातिब मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने यह घोषणा की। उन्होंने कहा कि भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा दिए निर्देशों के मुताबिक पहली मार्च से 31 मई तक की ऋण वापसी पर भी शुल्क माफ कर दिया गया है।

50 किलोवाट तक के उपभोक्ताओं का दो माह का पूरा फिक्स चार्ज माफ, बड़े उपभोक्ताओं को 10 हजार की राहत

व्यापारियों और उद्यमियों को बिजली के फिक्स चार्ज में छूट की घोषणा करते हुए मुख्यमंत्री ने गुजारिश की कि औद्योगिक इकाइयों, दुकानों या अन्य प्रतिष्ठानों में कार्यरत किसी कर्मचारी का वेतन न कांटे। छोटे व्यापारियों,  दुकानों और घरों में लगे कर्मचारियों और अन्य लोगों को भी वेतन पूरा दिया जाना चाहिए।

जनता के सहयोग से हराएंगे कोरोना को

मुख्यमंत्री ने कहा कि जनता के सहयोग से हम कोरोना को जरूर हराएंगे। आगामी दिनों में आने वाली आर्थिक मंदी का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि किसी भी संकट से निपटने के लिए एकजुटता जरूरी है। मार्च में 35 सौ करोड़ रुपये का राजस्व कम आया था, जबकि अप्रैल में भी इससे कहीं अधिक नुकसान उठाना पड़ना तय है। इसलिए सभी को दिल खोलकर कोरोना रिलीफ फंड में दान करना चाहिए ताकि जरूरतमंदों की मदद हो सके।

उन्होंने बताया कि अभी तक राहत कोष में दस हजार लोगों ने करीब 34 करोड़ रुपये दिए हैं। इसके अलावा एक लाख 15 हजार कर्मचारियों ने 55 करोड़ रुपये देने की घोषणा की है। उम्मीद है कि कल शाम तक सभी कर्मचारी इसमें अंशदान करेंगे जिससे यह राशि 100 करोड़ रुपये तक पहुंच जाएगी।

अन्न भंडारण के लिए किसानों ने मांगी बोरियां

लॉकडाउन के चलते मंडियों में अनाज देरी से लाने की सीएम की गुजारिश बड़ी संख्या में किसानों और ग्राम पंचायतों ने मान ली है। मुख्यमंत्री ने बताया कि कई पंचायत प्रतिनिधियों और किसानों ने बोरिया मांगी हैं ताकि अप्रैल तक फसलों का भंडारण किया जा सके। मुख्यमंत्री ने संबंधित विभाग के अफसरों और आढ़तियों को निर्देश दिया कि किसानों को पर्याप्त मात्रा में बारदाना उपलब्ध कराया जाए।

मुख्यमंत्री ने बताया कि अभी तक 13 लाख 30 हजार लोगों को करीब 290 करोड़ रुपये की मदद दी जा चुकी है। इस महीने का राशन 5 अप्रैल तक भिजवा दिया जाएगा। अंत्योदय परिवारों को 70 किलो तथा बीपीएल परिवारों को 10 किलो प्रति व्यक्ति राशन मुफ्त देंगे। इसके अलावा चीनी और सरसों का तेल भी मुफ्त दिया जाएगा।

5 अप्रैल को नौ बजे बिजली बंद कर जलाएं दीये, मोमबत्ती और मोबाइल लाइट

मुख्यमंत्री ने पीएम मोदी के आह्वान का समर्थन करते हुए कहा कि रविवार को सभी लोग रात नौ बजे घरों की बिजली बंद कर बालकोनी या खिड़की में मोमबत्ती, दिए या मोबाइल की फ्लैश लाइट जलाएं। उन्होंने कहा कि कोरोना से लड़ रहे राष्ट्र सेवकों का धन्यवाद करने के लिए जिस तरह पीएम मोदी की अपील पर सभी ने 22 मार्च को मिलकर नाद किया था, उसी तरह इस बार भी हमें यह कार्यक्रम एकजुट होकर सफल बनाना है।

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.