आशा वर्करों को एक दिन में 25 घरों का सर्वे करके लाने का दबाव बना

फरीदाबाद : ग्लोबल कोरोना वायरस की महामारी के चलते आशा वर्कर पर सर्वे करने का दबाव बनाया जा रहा है । लेकिन इसके लिए जरूरी जीवन रक्षक उपकरण नहीं दिए जा रहे हैं। यह जानकारी  आशा वर्कर यूनियन की जिला प्रधान हेमलता और जिला सचिव सुधा पाल यहां जारी एक बयान में दी। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों पर आशा वर्करों को मास्क, दस्ताने सैनिटाइजर का सामान नहीं देने का आरोप लगाया। जबकि विभाग के अधिकारी आशा वर्करों को  एक  दिन में 25 घरों का सर्वे करके लाने का दबाव बना रहे हैं।

 

इसके लिए उन्हें एक पुरुष कर्मचारी भी नहीं दिया जा रहा है। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग से सभी आशा वर्करों को जीवन रक्षक उपकरण देते हुए सर्वे कार्य के लिए एक मेल वर्कर साथ भेजने का अनुरोध किया है। जिला सचिव सुधा पाल ने बताया कि उन्होंने इस बाबत आला अधिकारी से बातचीत की थी । लेकिन अभी तक उन्होंने इसका कोई जवाब नहीं दिया है। जिस वजह से आशा वर्करों में भारी निराशा फैली हुई है। उन्होंने इस मामले पर शीघ्र कार्रवाई करने की मांग की।

Leave A Reply

Your email address will not be published.