यूपी के कुछ अन्य जिलों में भी हॉटस्पॉट तय कर वहां सुरक्षा का घेरा बढ़ाया जाएगा

लखनऊ । Fight Against Corona Virus : उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण का दायरा बढ़ने के साथ ही पुलिस ने अपनी सतर्कता और बढ़ा दी है। खासकर हॉटस्पॉट के मद्देनजर लखनऊ, नोएडा, मेरठ, गाजियाबाद व अन्य जिलों में ड्रोन कैमरों से कड़ी नजर रखी जा रही है। संक्रमित क्षेत्रों में पुलिसकर्मी दूर से ही चप्पे-चप्पे पर नजर रख रहे हैं।

 

लॉकडाउन के दौरान लोगों की सड़कों पर आवाजाही को और नियंत्रित करने के लिए पुलिस ने सख्ती बढ़ा दी है। डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी ने चेकिंग के दौरान बेवजह घर से बाहर निकलने वालों के विरुद्ध कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। डीजीपी मुख्यालय ने शुक्रवार को दूसरे दिन भी हॉटस्पॉट की गतिविधियों पर नजर रखी। सभी स्थानों पर की जा रही कार्रवाई व पुलिस व्यवस्थाओं का ब्योरा भी जुटाया जा रहा है।

 

दरअसल, तब्लीगी जमात में शामिल लोगों के जरिए कोरोना का संक्रमण तेजी से बढ़ता देख पुलिस व प्रशासन रणनीति बनाने में जुट गए हैं। सूत्रों का कहना है कि कुछ अन्य जिलों में भी हॉटस्पॉट तय कर वहां सुरक्षा का घेरा बढ़ाया जाएगा। दूसरे चरण में की जानी वाली कार्रवाई को लेकर भी होमवर्क शुरू हो गया है।

121 हॉटस्पॉट में 308 कोरोना पाजिटिव

अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हॉटस्पॉट क्षेत्रों को पूरी तरह सील करने के कड़े निर्देश दिए हैं। 121 हॉटस्पॉट क्षेत्रों में मकानों व उनमें रहने वालों को सूचीबद्ध करने की कार्रवाई शुरू कर दी गई है। पहले चरण में अब तक 1,24,581 मकानों को सूचीबद्ध कर 7,58,669 लोगों को चिन्हित किया गया है। इन हॉटस्पॉट में 308 कोरोना पॉजिटिव हैं। यहां 1516 कोरोना संदिग्ध लोगों में से 1433 लोगों को संस्थागत क्वारंटाइन में रखा गया है।

हॉटस्पॉट में 289 वाहन जब्त

अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने बताया कि हॉटस्पॉट के क्षेत्रों में 704 स्थानों पर बैरीकेडिंग कर बाहरी लोगों की आवाजाही पर प्रतिबंध लगाने के साथ ही पुलिस चेकिंग भी बढ़ाई गई है। इस दौरान इन क्षेत्रों में पुलिस ने 1658 वाहनों का चालान करने के साथ 289 वाहन जब्त किए हैं। हॉटस्पॉट में निर्देशों का उल्लंघन करने वालों के विरुद्ध धारा 188 के तहत आपदा प्रबंधन अधिनियम व ऐपिडेमिक एक्ट के 111 मुकदमे भी दर्ज किए गए हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.