सेक्टर-88 में फ्लैट के अंदर आग लगने से भगदड़

फरीदाबाद : ग्रेटर फरीदाबाद स्थित एसआरएस रेजीडेंसी सेक्टर-88 के एक फ्लैट में बुधवार सुबह आग लगने से भगदड़ मच गई। शुक्र रहा कि उस समय फ्लैट में कोई नहीं था। फ्लैट के अंदर सामान जलकर राख हो गया था। सुरक्षा अधिकारी सचिन नागर एवं वीरपाल नरवत के साहस की वजह से ही आग पर जल्दी काबू पा लिया गया। सूचना मिलने के बाद दमकल गाड़ी करीब 45 मिनट में पहुंच गई थी पर तब तक आग बुझाई जा चुकी थी। आग लगने के कारणों का पता नहीं चल पाया है।

फ्लैट नंबर-104 में रहने वाली सोनिया अध्यापक हैं। वह रोजाना की तरह बुधवार को साढ़े सात बजे के करीब अपनी बेटी के साथ फ्लैट को ताला लगाकर स्कूल चली गई थी। 7:45 बजे के करीब सोसायटी में मॉर्निंग वॉक कर रहे लोगों ने फ्लैट में धुआं निकलते देखा तो शोर मचा दिया। टॉवर के अन्य फ्लैटों में रहने वाले लोगों को इस बारे में पता चलने के साथ ही भगदड़ मच गई और सभी अपने फ्लैट से बाहर निकलकर बाहर आ गए। सी-1 टॉवर के आसपास लोगों की काफी भीड़ इकठ्ठा हो गई थी। फ्लैट के आसपास रहने वालों ने दमकल विभाग को फोन पर आग की सूचना दी। इससे पूर्व सोसायटी की सुरक्षाकर्मी आग पर काबू पाने के प्रयास में जुटे हुए थे। आग तेज होने चलते कोई भी फ्लैट में जाने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहा था। दमकल गाड़ी के पहुंचने से पहले ही आग पर नियंत्रण पाया जा चुका था। बाद में दमकल कर्मियों ने पानी से पूरी तरह आग को बुझाया। सुरक्षा अधिकारियों के साहस से बड़ा हादसा टला

आग की सूचना पाकर सुरक्षा अधिकारी सचिन नागर एवं वीरपाल नरवत भी मौके पर पहुंच गए थे। सचिन नागर ने साहस दिखाते हुए फ्लैट के मुख्य दरवाजे को तोड़कर प्रवेश करने का प्रयास किया। धुएं की वजह से सांस लेना दूभर हो रहा था। सचिन मुंह पर गीले मफलर को लपेटकर फ्लैट में प्रवेश कर गए और उन्होंने सबसे पहले रसोई में रखे दो सिलेंडर बाहर निकाले। सचिन कार्बनडाई ऑक्साइड के सिलेंडरों के जरिए आग बुझाने में जुट गए, जबकि वीरपाल सीढ़ी लगाकर फ्लैट की बालकनी तक पहुंचे और उन्होंने शीशा तोड़कर पाइप लाइन से पानी का छिड़काव किया। इसके लिए उन्होंने पानी की मुख्य लाइन को काट दिया था। आग से कमरे के अंदर की दीवार में आई दरार

आसपास के लोगों ने बताया कि आग इतनी तेज थी कि दीवार में दरार आ गई है। आग से दीवारों को काफी नुकसान हुआ है। आग से टाइलें उखड़ गई हें। कमरे में रखा सभी सामान जलकर राख हो गया। सोसायटी में खराब पड़े हैं आग बुझाने के उपकरण

एसआरएस रेजीडेंसी में करीब 1100 से अधिक फ्लैट हैं। स्थानीय लोगों ने बताया कि सोसायटी में रखरखाव का कार्य आरडब्ल्यूए देखती है। लंबे समय से सोसायटी में लगे अग्निशमन उपकरण खराब पड़े, पाइपों में पाइन नहीं है। पांच साल से अग्निशमन सिलेंडरों में गैस नहीं बदली गई। कई बॉक्स में से पानी के पाइप ही गायब हैं। ऐसे में यहां अगर बड़ा हादसा होता है तो हजारों लोगों की जान जा सकती है। एसआरएस रेजीडेंसी के एक फ्लैट में आग लगने की सूचना मिली है। सूचना पर एक फायर ब्रिगेड की गाड़ी मौके पर भेजी गई। कर्मियों ने आग पर काबू पा लिया है। आग के कारण का पता नहीं लग सका है।

-आरडी भारद्वाज, मुख्य अग्निशमन अधिकारी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.