बिहार में एक पुलिसकर्मी को सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक पोस्‍ट करना महंगा पड़ा

बक्सर । बिहार में एक पुलिसकर्मी को सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक पोस्‍ट करना महंगा पड़ा। नौकरी गंवा कर इसका खामियाजा भुगतना पड़ा है। बिहार के डीजीपी ने आरोपी एएसआई (ASI) को नौकरी से हटाने का आदेश दिया है। यह आदेश तत्‍काल प्रभाव से लागू कर दिया गया है। इतना ही नहीं, बक्‍सर के आरक्षी अधीक्षक ने आरोपी की गिरफ्तारी का आदेश पहले ही दे दिया था। इसके बाद उसे रविवार को ही गिरफ्तार कर लिया गया था।

बताया जाता है कि बक्‍सर के नावानगर थाना के साइबर सेनानी ग्रुप में आपत्तिजनक फोटो वायरल करने के आरोपी एएसआइ संतोष कुमार को सेवा से बर्खास्त कर दिया गया है। एएसआइ ने रविवार को आपत्तिजनक फोटो वायरल करते हुए उस पर गलत टिप्पणी की थी। मामला संज्ञान में आते ही पुलिस अधीक्षक ने उसे गिरफ्तार कर कार्रवाई करने का आदेश जारी किया था। इस पर गिरफ्तारी भी हुई है। पुलिस अधीक्षक उपेंद्रनाथ वर्मा ने बताया कि डीजीपी के आदेश पर सहायक दारोगा संतोष कुमार को सेवा से बर्खास्त कर दिया गया। डीजीपी के आदेश पर आरोपी एएसआई को बर्खास्‍त करने की कार्रवाई की गई है।

बताते चलें कि रविवार को नावानगर थाना के साइबर सेनानी ग्रुप में एएसआइ संतोष कुमार ने आपत्तिजनक फोटो के साथ सांप्रदायिक टिप्पणी लिखी थी। ग्रुप में पोस्ट डालने के कुछ ही देर के बाद इसी पोस्ट को सोनवर्षा के पूर्व जदयू नेता शम्भू पटेल ने सोनवर्षा थाना के साइबर सेनानी ग्रुप में वायरल कर दिया। जानकारी मिलते ही पुलिस अधीक्षक ने दोनों को तत्काल गिरफ्तार कर कार्रवाई का आदेश दिया था।

बहरहाल, आरोपी एएसआई के बर्खासत करने की कार्रवाई से पुलिस महकमे में हड़कंप मचा हुआ है। दरअसल साइबर सेनानी ग्रुप का गठन लोगों को त्वरित सेवा देने को किया गया था। लोगों ने इसे मनोरंजन का साधन बना डाला। इसे लेकर बार-बार पुलिस के वरीय पदाधिकारी के पास शिकायत की जाती थी। लेकिन जब एक पुलिसकर्मी ही इसे मजाक बना दिया, तब पुलिस महकमे ने इसे गंभीरता से लिया और कड़ी कार्रवाई की।

Leave A Reply

Your email address will not be published.