Self Add

लोगों की भर आईं आंखें, बहू-बेटे का सितम, कैसे जिएंगे हम…?

People's eyes filled with tears, son and daughter-in-law are torturing us, how will we live...?

People's eyes filled with tears, son and daughter-in-law are torturing us, how will we live...?
IMAGES SOURCE : GOOGLE

मेरठः वैसे तो बच्चे अपने मां-बाप के बुढ़ापे की लाठी कहे जाते हैं. लेकिन जब बच्चे उन्हें छोड़ देते हैं तो वो बेसहारा हो जाते हैं. ऐसे ही एक बेहसारे बाप की कहानी मेरठ से सामने आई है, जिसे पढ़कर आप भी सोचने पर मजबूर हो जाएंगे कि भला लोग कैसे ये कर सकते हैं. मेरठ के एसएसपी के ऑफिस पहुंचे एक बुजुर्ग ने ऐसी आपबीती सुनाई की हर कोई सन्न रह गया. बुजुर्ग को जवान एसएसपी विपिन ताडा के पास ले गए. जब शिकायती पत्र पर बुजुर्ग को हस्ताक्षर करने को कहा गया तो बुजुर्ग का हाथ कांप उठा. उसने गुहार लगाते हुए कहा कि हुजूर बस मुझे न्याय चाहिए.

बुधवार को एसएसपी ऑफिस पहुंचे बुजुर्ग के हाथ में एक कागज का टुकड़ा था, जिसपर वो अपनी फरियाद लेकर आए थे. बुजुर्ग का नाम आबिद हुसैन है. आबिद हुसैन 94 साल के हैं. वो एसएसपी ऑफिस अपने बेटे और बहू के खिलाफ शिकायत करने पहुंचे थे. उन्होंने कहा, ‘दोनों ने मुझे कहीं का नहीं छोड़ा है. बेटा मेरा ख्याल नहीं रखता है, मेरे पास जो सहारा है, वो भी छीन लिया.’ ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मियों ने उनकी शिकायत ले ली, जिसमें उन्होंने अपने बेटे और बहू के जुल्मों का जिक्र किया था.

बुजुर्ग ने अपनी शिकायत में केवल 7 लाइन लिखे थे. आबिद ने बताया कि उनके पास रखे हुए 4 लाख रुपये भी बहू और बेटे ने छीन लिया. दोनों ने पैसे छीनने के लिए मेरे साथ मारपीट भी की. बेटा खर्च के लिए पैसा भी नहीं देता है. दिल्ली में मेरा एक मकान है. उससे हर महीने किराया आता है. बेटा-बहू ने किराएदार को फोन कर किराए के बकाया 33 लाख रुपये भी अपने पास मंगाकर हड़प लिया. एसएसपी विपिन ताडा ने बुजुर्ग की बात सुनी और फिर उचित कार्रवाई का आश्वासन दिया. साथ ही थाना प्रभारी को जांच कर कार्रवाई करने का निर्देश दिया

NEWS SOURCE Credit: news18.com

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
kartea